जीरो एफआईआर वॉट्सएप ग्रुप से चलेगा तंत्र, विज इसी से लेते हैं रोजाना की रिपोर्ट

(सुशीलभार्गव)चंडीगढ़.प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज स्वास्थ्य और खेल जैसे बड़े महकमे संभाल चुके हैं, लेकिन इसमें वॉट्सएप ग्रुप ‘जीरो एफआईआर’ का अहम रोल है। विज रोजाना की रिपोर्ट इसी के माध्यम से लेते रहे हैं। उन्होंने अपने आॅफिस के स्टाफ के साथ...

जीरो एफआईआर वॉट्सएप ग्रुप से चलेगा तंत्र, विज इसी से लेते हैं रोजाना की रिपोर्ट
जीरो एफआईआर वॉट्सएप ग्रुप से चलेगा तंत्र, विज इसी से लेते हैं रोजाना की रिपोर्ट

(सुशीलभार्गव)चंडीगढ़.प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज स्वास्थ्य और खेल जैसे बड़े महकमे संभाल चुके हैं, लेकिन इसमें वॉट्सएप ग्रुप ‘जीरो एफआईआर’ का अहम रोल है। विज रोजाना की रिपोर्ट इसी के माध्यम से लेते रहे हैं। उन्होंने अपने आॅफिस के स्टाफ के साथ यह वाॅट्सएप ग्रुप पिछले पांच साल से बनाया हुआ है।

 

वे खुद ग्रुप के एडमिन हैं। अब विज के पास गृह मंत्रालय आ गया है। यहां विज ने ग्रुप का मतलब रोजाना की कार्रवाई पूर्ण, व्यक्ति चाहे कहीं भी हो, काम कंप्लीट होना चाहिए। इसके जरिए हर पल की खबर उन तक पहुंचती है, वे अपडेट रहते हैं।

 

अब इस ग्रुप को और ताकत दी जाएगी, यानी पुलिस तंत्र को मजबूत करने में ग्रुप का अहम योगदान होगा। छठी बार अम्बाला कैंट से विधानसभा चुनाव जीतने वाले अनिल विज ने शुक्रवार को कार्यभार ग्रहण कर लिया। उन्होनें कहा कि अब गृह मंत्रालय की अपडेट भी इसी ग्रुप से लेंगे।

 

विज ने करीब 5 साल पहले बनाया था ग्रुप

इसमें ग्रुप के साथियों को रोजाना की राजनीतिक गतिविधियां, प्रेस कटिंग, समूचे हरियाणा में कोई नई हलचल, हर तरह की प्रोग्रेस रिपोर्ट, महत्वपूर्ण कार्य जो जरूरी होने हैं, विश्व स्तर की बड़ी खबरें आदि शेयर करनी होती हैं। यही नहीं ग्रुप के सभी साथी मंत्री के साथ अप-टू-डेट रहते हैं। यही नहीं जो भी आदेश जारी करना होता है, वे इसके जरिए ही संदेश देते रहे हैं और ग्राउंड से जुड़े रहते हैं। कहीं भी बड़ी गतिविधि या आयोजन होते हैं तो इसके जरिए ही मंत्री को पल-पल की रिपोर्ट पहुंचती रहती है।

 

पहले दिन गृह मंत्री की डीजीपी के साथ बैठक

डीजीपी मनोज यादव और गृह मंत्री अनिल विज के बीच करीब 30 मिनट तक सुरक्षा व्यवस्था व गतिविधियों पर चर्चा हुई। इस दौरान पुलिस तंत्र में किस तरह के सुधार चल रहे हैं। कानून व्यवस्था और अपराधियों पर नकेल कसने को लेकर गहन मंथन हुआ। विज ने नशाखोरों पर नकेल कसने के लिए डीजीपी के साथ बातचीत की है।