बाबा रामदेव के सिर कलम करने वाले बयान पर कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने लिया मुकदमा वापिस

रोहतक। साल 2017 में रोहतक के अंदर आयोजित सद्भावना सम्मेलन में बाबा रामदेव द्वारा दिए गए भड़काऊ भाषण पर कांग्रेस के पूर्व मंत्री सुभाषबत्रा ने मुकदमा वापिस ले लिया है। उन्होंने कहा कि यह केस नैतिक आधार पर वापिस लिया है। गौरतलब है कि बाबा रामदेव...

बाबा रामदेव के सिर कलम करने वाले बयान पर कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने लिया मुकदमा वापिस
बाबा रामदेव के सिर कलम करने वाले बयान पर कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने लिया मुकदमा वापिस

रोहतक। साल 2017 में रोहतक के अंदर आयोजित सद्भावना सम्मेलन में बाबा रामदेव द्वारा दिए गए भड़काऊ भाषण पर कांग्रेस के पूर्व मंत्री सुभाषबत्रा ने मुकदमा वापिस ले लिया है। उन्होंने कहा कि यह केस नैतिक आधार पर वापिस लिया है। गौरतलब है कि बाबा रामदेव ने मंच से कहा था कि यदि उनके हाथ कानून से बंधे नहीं होते तो भारत माता की जय नहीं बोलने वाले लोगों के सिर कलम कर देते।

 

हरियाणा के पूर्व मंत्री सुभाष बत्रा ने कहा कि हमारी इस विषय पर गलतफहमी थी। वो दूर हो गई है। बाबा रामदेव ने इसे स्पष्ट कर दिया है। उस दौरान बाबा रामदेव सद्धभावना रैली कर रहे थे। हर समाज के लोग बैठे थे। बात सद्धभावना बनाने की होनी चाहिए थी लेकिन बाबा रामदेव ने भड़काऊ भाषण दिया था। ऐसी बात नहीं होनी चाहिए थी। हालांकि उन्होंने हरिद्वार में काफी लोगों को इकट्ठा करके इसे स्पष्ट कर दिया है। यह स्लीप अॉफ टंग थी। तभी उन्होंने केस वापिस लिया है।

 

यह था मामला
जाट आरक्षण आंदोलन में हिंसा के बाद रोहतक में सद्भावना सम्मेलन हुआ था। इसमें भाग लेने स्‍वामी रामदेव भी पहुंचे थे। आरोप था कि सम्मेलन में उन्‍होंने भड़काऊ भाषण दिया। कांग्रेस के पूर्व मंत्री सुभाष बत्रा ने इस संबंध में स्‍वामी रामदेव के खिलाफ मामला केस दर्ज करवाया था, जो अभी तक चल रहा था।